वन्यजीव अपराध पर आयोजित राष्ट्रस्तरीय वेबिनार में सम्मलित हुए म.प्र के अभियोजन अधिकारी

भोपाल
वन्यजीव अपराध पर आयोजित राष्ट्रस्तरीय वेबिनार में सम्मलित हुए म.प्र के अभियोजन अधिकारी

वन्यजीव अपराध एवं वैज्ञानिक साक्ष्य विषय पर मध्यप्रदेश एवं देश के विभिन्न राज्यों के अभियोजन अधिकारियो की राष्ट्रीय स्तर पर  एक दिवसीय वेबिनार का आयोजन श्री पुरुषोत्तम शर्मा महानिदेशक / संचालक लोक अभियोजन मप्र के मुख्य आतिथ्य में दिनांक 27.7.20 को सेंट्रल एकादमी फॉर पुलिस ट्रेनिंग ( भारत सरकार ) भोपाल में किया गया | 
श्रीमति सुधाविजयसिंह भदौरिया राज्य समन्वयक (वन& वन्यप्राणी) लोक अभियोजन  मध्यप्रदेश ने बताया कि इस वेबिनार कार्यक्रम में देश के विभिन्न राज्यों के 500 से अधिक अभियोजन अधिकारी एवं वन अधिकारी सम्मिलित हुए । कार्यक्रम के शुभारम्भ अवसर पर पुलिस महानिरीक्षक एवं संचालक श्री पवन श्रीवास्तव ने सेंट्रल एकादमी फॉर पुलिस ट्रेनिंग की ओर से मुख्य अतिथि श्री पुरुषोत्तम शर्मा, विशेष अतिथि श्री जे एस चौहान APCCF,वन्यप्राणी एवं श्री असीम श्रीवास्तव  APCCF, सुरक्षा एवं व्याख्यान हेतु उपस्थित रिसोर्स पर्सन का स्वागत किया । इस अवसर पर निदेशक/पुलिस महानिरीक्षक श्री पवन श्रीवास्तव द्वारा स्वागत संबोधन दिया गया एवं  इस प्रशिक्षण कार्यक्रम की आवश्यकता को प्रतिपादित करते हुए बताया कि सीएपीटी द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में नये प्रयासों के साथ सायबर व नवीन तकनीकियो  का उपयोग कर अपराधों के नियंत्रण हेतु  प्रशिक्षण के अनेकों कार्यक्रम चलाये जा रहे है । इसी कड़ी में अभियोजन अधिकारियों के लिये यह 01 दिवसीय वेबिनार / प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया |
मुख्य अतिथि श्री पुरुषोत्तम शर्मा ने वन्यजीव की महत्वता , न्यायालयों में लंबित एवं निराकृत वन अपराध के प्रकरणों की जानकारी दी  साथ ही दुर्लभ / विलुप्तप्राय  वन्यजीव के आपराधिक प्रकरणों को शासन स्तर पर चिन्हित कराकर , माननीय उच्च न्यायालय को प्रकरणों के  शीघ्र निराकरण हेतु प्रस्ताव भेजे जाने की बात कही  | श्री शर्मा ने बताया कि मेरी पुलिस अधीक्षक पद्स्थापनो के समय से ही मेरे द्वारा वन्यजीव अपराधियों के खिलाफ कठोर की गयी और अभियोजन विभाग में मेरे आने से उन्हें सजा दिलवाने का अवसर मिला है उन्होंने आगे बताया कि प्रत्येक जिले में वन अपराधों की  पैरवी  हेतु एक- एक अभियोजन अधिकारी को अधिकृत किया है एवं इन सभी के कार्यो के पर्यक्षण एवं नियंत्रण , विवेचना अधिकारियो / अभियोजन अधिकारियो  से समन्वय स्थापित करने, दुर्लभ वन्यजीव के शिकार के प्रकरणों में विधिक संवीक्षा करने , प्रभावी अभियोजन संचालन करने हेतु एवं  वन विभाग को आवश्यक विधिक परामर्श देने का दायित्व श्रीमति सुधाविजयसिंह भदौरिया को राज्य समन्वयक के रूप में अधिकृत करते हुए  सौपा गया है | श्री जे एस चौहान APCCF ने प्रत्येक माह में एक बार राज्यस्तर पर वन्यजीव अपराधो की समीक्षा बैठक आयोजित करने की बात कही, जिसमे वन विभाग और अभियोजन विभाग की ओर से राज्स्तरीय अधिकारी सम्मलित होगे | श्री असीम श्रीवास्तव  APCCF ने कहा इस कार्याशाला से वन अपराधो की सजा में निश्चित रूप बढोतरी होगी साथ ही महानिदेशक अभियोजन को धन्यवाद दिया कि मप्र देश का पहला राज्य है जंहा प्रत्येक जिले में वन विभाग के प्रकरणों में पैरवी हेतु जिले स्तर पर एक एक अभियोजन अधिकारी नियुक्त है | प्रशिक्षण कार्यशाला में श्री रितेश सिरोठिया, उप वन संरक्षक ने रास्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय अपराधो एवं  किस- किस एजेंसी द्वारा ट्रैक किया जाता है के बारे में , डा अजय गौर, वरिष्ठ वैज्ञानिक हैदरावाद ने वन्यजीव अपराध के अन्वेषण में डीएनए का महत्व , डा अरविन्द बडोनिया, संयुक्त संचालक FSL सागर ने वन्यजीव अपराध में फारेंसिक तकनीकी का उपयोग  एवं बैलास्टिक तकनीकी का महत्व एवं श्रीमति सुधाविजयसिंह भदौरिया राज्य समन्वयक ने वन्यजीव अपराध की जाँच एवं न्यायालयीन प्रक्रिया पर प्रशिक्षण दिया |
शुभारम्भ कार्यक्रम का  संचालन, एवं आभार प्रदर्शन श्री प्रकाश बड़ोलिया सहा. संचालाक सेंट्रल एकादमी फॉर पुलिस ट्रेनिंग ( भारत सरकार ) भोपाल द्वारा किया गया
Republic MP Team
राज सोलंकी प्रधान संपादक 9425033133
रिंकेश बैरागी संपादक 9340677929
जितेंद्र सिंह सिसोदिया सह संपादक 9827735800
पवन प्रबंध संपादक 9826695898
विजय वसुनिया जिला संवाददाता 969125447

टिप्पणी पोस्ट करें

Devloped by Sai Web Solution OddThemes