फर्जीवाड़े में सहयोग करने वाला वकील एस जमाली गिरफ्तार कर भेजा जा चुका है जेल

वकील
    आरोपी    


नाबालिकों के यौन शोषण का आरोपी प्यारे मिया के विरूद्ध एक औऱ मामला
प्यारे मियाँ को धोखाधड़ी के मामले में 3 अगस्त तक का पुलिस रिमांड
श्यामला हिल्स थाने ने लिया 4 दिन का पुलिस रिमांड
फर्जी नामो पर बनाई सोसायटी और उसके आडिट के फर्जीवाड़े का है मामला,
फर्जीवाड़े में सहयोग करने वाला वकील एस जमाली गिरफ्तार कर भेजा जा चुका है जेल
आज दिनाँक को नाबालिको के यौन शोषण जा मुख्य आरोपी थाना कोहेफिजा द्वारा पुलिस रिमांड समाप्त होने पर कोर्ट में पेश किया गया, जहाँ माननीय न्यायालय श्रीमती स्‍नेहा सिंह न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी के न्यायालय में थाना श्यामला हिल्स ने अपराध क्रमांक 173/ 20 अंतर्गत धारा-420,406 भादवि में 5 दिनों कि पुलिस रिमांड की मांग की और बताया कि आरोपी से सोसायटी के दस्तावेज,और ऑडिट रिपोर्ट जप्त करना है साथ ही अपराध में संलिप्त अन्य वयक्तियों के बारे में जानकारी प्रप्त करनी है,और सोसायटी के बारे में महत्वपूर्ण पूछताछ करनी है,जिस पर न्यायालय द्वारा समस्त परिस्थितियों पर विचार उपरांत आरोपी प्यारे मिया को 4 दिन का पुलिस रिमांड दिनाँक 3 अगस्त 2020 तक के लिए प्रदान किया,मामले में शासन की और से  एडीपीओ श्री योगेश तिवारी ने पैरवी की।
मीडिया सेल प्रभारी मनोज त्रिपाठी ने बताया कि दिनाँक 24-07-2020 को आवेदक एस एन सिंह अध्यक्ष लेक व्यू इन्क्लेव अपार्टमेंट वेल फेयर सोसायटी द्वारा थाना श्‍यामला हिल्‍स में आरोपी प्यारे मिया और उसके द्वारा गठित ई लेक व्यू इन्क्लेव अपार्टमेंट वेल फेयर सोसायटी के विरुद्ध आवेदन दिया था कि प्यारे मियाँ द्वारा अपने घर के सदस्यों के नाम पर और सोसायटी के अन्य लोगो को कोई  जानकारी  दिये बिना ई ब्लाक वेलफेयर सोसायटी गठित कर अंसल अपार्टमेंट के ई ब्लाक की छत पर भारतीय एयरटेल लिमिटेड का टावर लगवा कर वर्ष 2011 से आज तक लगभग 60 लाख रुपये एयरटेल से प्राप्त किये और सोसायटी के लिए कोई काम नही कराया ,जिस पर जांच उपरांत थाना श्यामला हिल्स ने धारा-420,406 भादवि में मामला दर्ज कर विवेचना में लिया, विवेचना दौरान ये पाया गया कि समय समय पर सोसायटी की मीटिंग में फर्जी लोगो के नाम और हस्ताक्षर बना कर ऑडिट रिपोर्ट वकील एस जमाली के सहयोग से रजिस्टार कार्यालय में जमा कराया था, पुलिस द्वारा  आरोपी वकील जमाली को गिरफ्तार कर उससे फर्जी ऑडिट रिपोर्ट बनाने वाले कंप्यूटर को जप्त किया  और आरोपी वकील को जेल भेज दिया है।


  
            
Republic MP Team
राज सोलंकी प्रधान संपादक 9425033133
प्रमोद सोलंकी संपादक -
जितेंद्र सिंह सिसोदिया सह संपादक 9827735800
पवन प्रबंध संपादक 9826695898

टिप्पणी पोस्ट करें

Devloped by Sai Web Solution OddThemes